वाया बीजिंग

कुछ बातें बच गईं कहने से,कुछ राहें रह गईं चलने से...उन बातों और राहों की झलक वाया बीजिंग

17 Posts

132 comments

brahmatmaj


Sort by:

बनारस भारत का अदभुत शोकेस है!

Posted On: 24 Mar, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (27 votes, average: 4.15 out of 5)
Loading ... Loading ...

मस्ती मालगाड़ी में

10 Comments

सिनेमा में आवाज के 80 वर्ष

Posted On: 21 Mar, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

मस्ती मालगाड़ी में

4 Comments

नज़ीर अकबराबादी की नज़र होली पर

Posted On: 28 Feb, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

मस्ती मालगाड़ी में

5 Comments

कभी गौर किया है गोरैया पर?

Posted On: 25 Feb, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 4.83 out of 5)
Loading ... Loading ...

मस्ती मालगाड़ी मेट्रो लाइफ में

5 Comments

आमिर बनाम शाहरुख

Posted On: 15 Feb, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 4.60 out of 5)
Loading ... Loading ...

मस्ती मालगाड़ी में

6 Comments

शाहरूख बनाम शिव सेना : आप किधर हैं ?

Posted On: 4 Feb, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (17 votes, average: 4.18 out of 5)
Loading ... Loading ...

मस्ती मालगाड़ी में

36 Comments

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा:

के द्वारा: brahmatmaj brahmatmaj

के द्वारा: brahmatmaj brahmatmaj

इस मौसम में कभी घर में उत्सवी महौल रहता। छतों पर आम को काट-छीलकर,उसमें हल्दी-नमक लगाकर जिसे कि मां फांक कहती,सूखता रहता। मां दिनभर उसे अगोरती(रखवाली करती)। बीच-बीच में कहा भी करती कि मेरा आंख बंद हुआ कि इसब घर से खत्म हो जाएगा। तुमलोग की बहू थोड़े ही न ये सब करेगी। बाद में मां को मैंने ही आइडिया दिया था कि तुम जिस चादर पर ये फांक फैलाती हो उसके उपर मच्छरदानी लगा दो,कौए कुछ नहीं बिगाडेंगे इसका। बाद में मां ने ऐसा ही किया।..तो ये तैयारी तो खट्टे अचार की होती। मीठे अचार के लिए लग से मसाला बनता,जीरे की खुशबू से पूरा घर भर जाता। गुड का सिरा बनता और उसमें पानी और सोड़े में उबाले आम का टुकड़ा।..पूरे मोहल्ले में ऐसा लगता कि कोई जिले स्तर की आम बनाने की प्रतियोगिता हो रही है और महिलाओं को मेडल मिलने जा रहा है। जिन घरों में अचार नहीं बनता,उस घर के बच्चे उदास होते क्योंकि उन्हें ताम-झाम करने का मौका नहीं मिलता।..

के द्वारा:

अजय जी द्वारा रचित अचार कथा, जो कि अचार बनाने की तरह ही रची गई है, ने मन मोह लिया परंतु एक बात का जिक्र अवश्‍य करना चाहूंगा कि आजकल अचार में चूहों की दिलचस्‍पी बढ़ गई है। पिछले दिनों मध्‍यप्रदेश में अचार के पांच किलो की पैकिंग में 250 ग्राम का एक चूहा मिला है। वैसे भी मानव सारे प्रयोग चूहों पर ही जांच करके परखता है। उसी की कड़ी हो सकती है शायद, चूहा अचार में इतना रम गया हो कि रम उल्‍टा और वो मर गया। फिर भी अचार की अचारियत निर्विवाद रूप से कायम रहेगी और रहनी भी चाहिए, डॉक्‍टरों के भरसक प्रयासों के बाद भी। इसी कामना के साथ आपके सुर में सुर मिलाते हुए 'अचार मिले तुम्‍हारा हमारा, तो अचार बने न्‍यारा'। 77

के द्वारा:

के द्वारा: brahmatmaj brahmatmaj

My name is Khan And Here Is My List Of Terrorist Attacks in India The massacres perpetrated by Muslims in India are unparalleled in history. They are bigger in sheer numbers than the Holocaust, or the massacre of the Armenians by the Turks; more extensive even than the slaughter of the South American native populations by the invading Spanish and Portuguese. Major recent attacks by Islamic terrorists in India: March 12, 1993: 257 killed and more than 1,000 injured in 15 co-ordinated bomb attacks in Bombay. The blasts were orchestrated by an Islamic group headed by Dawood Ibrahim. February 14, 1998: 46 people were killed and more than 200 injured in 13 car bombs in the city of Coimbatore, Tamil Nadu. The attacks were blamed on the “Al Umma” Islamist group October 1, 2001: Militants belonging to Jaish-e-Mohammed, a Kashmiri group, attacked Jammu and Kashmir Assembly complex in Srinagar, killing 35 people. December 13, 2001: Attack on the Indian Parliament complex in New Delhi led to the killing of a dozen people and 18 injured. Four members of the Pakistan-based Islamist group Jaish-e-Mohammed were later convicted for their part in the plot September 24, 2002: 31 people killed, 79 wounded at Akshardham temple in Gujarat May 14, 2002: Islamic attackers killed more than 30 people in an Army camp near Jammu. March 13, 2003: A bomb attack on a commuter train in Mumbai killed 11. Aug. 25, 2003: Twin car bombings in Mumbai killed at least 52 people and injured 150. Indian authorities blamed the Kashmiri Islamist group Lashkar-e-Taiba July 5, 2005: Attack on the Ram Janmabhoomi complex, the site of the destroyed Babri Mosque at Ayodhya in Uttar Pradesh. Oct. 29, 2005: Three explosions in busy shopping areas of south Delhi, two days before the Hindu festival of Diwali, killed 59 and injured 200. Islami Inqilabi Mahaz (Islamic Revolutionary Group) claimed responsibility, but authorities blamed Lashkar-e-Taiba March 7, 2006: A series of bombings in the holy city of Varanasi killed at least 28 and injured over a hundred. Indian investigators blamed Pakistan-based Islamic terrorists. July 11, 2006: Seven bomb blasts on the Mumbai Suburban Railway killed over 200 people. Police blamed Lashkar-e-Taiba and Students Islamic Movement of India. Sept. 8, 2006: At least 37 people were killed and 125 were injured in a series of explosions near a mosque in Malegaon, Maharashtra. The Islamic Movement of India claimed responsibility. Aug. 25, 2007: Forty-two people killed and 50 injured in twin explosions at a crowded park in Hyderabad by Harkat-ul-Jehad-i-Islami (HuJI). May 13, 2008: A series of six explosions in Jaipur killed 63 people and injured more than 150. July 26, 2008: Serial explosions in the western Indian city of Ahmedabad killed 45 people and injured more than 150. The Indian Mujahideen claimed responsibility

के द्वारा: rahul rahul

के द्वारा:

अजय जी का एक और अच्‍छा आलेख। शाहरुख हों या आमिर...दोनों ज़हीन अभिनेता हैं। सरफरोश वाले आमिर को कोई नहीं भुलाना चाहेगा तो वीर जारा के स्‍कवाड्रन लीडर वीर प्रताप सिंह की आंखों और चेहरे पर जिंदगी के हरे साल पीले पड़ने का गम शाहरुख ही झलका सकते थे। इधर, अमोल गुप्‍ते के किरदार को तारे ज़मीं पर में निभाना आमिर के ही वश की बात थी। कल हो न हो में कैंसर से जूझ रहे युवक ने जिस प्रकार प्रेमिका के दिल को चुपचाप दोस्‍त के दिल में डाल दिया वह शाहरुख ही कर सकते थे। देवदास की पीड़ा को शाहरुख ने बाखूबी निभाया। गज़नी में आमिर का अलग ही रूप है तो ओम शांति ओम में शाहरुख भी अलग हैं। दोनों बहुत ही प्रतिभावान हैं लेकिन आमिर के पास एक सामाजिक प्रतिबद्धता है जो शाहरुख के यहां कुछ कम दिखती है।पैसे लेकर लोगों की शादियों में नाचने की बात सुनी थी। हो सकता है यह सही होता हो लेकिन एक प्रशंसक के नाते अच्‍छा नहीं लगा था। दूसरी ओर आमिर एक सोच लेकर चलते प्रतीत होते हैं सिनेमा के जरिये भी वहीं संदेश देते हैं। अच्‍छी बात यह है दोनों तटस्‍थ नहीं हैं। दोनों का कोई न कोई पक्ष है। दोनों की कई फिल्‍में दर्शक की जरूरत को पूरा कर रही हैं। आज के युग का सार्थक सिनेमा जो होना चाहिए वह इन दोनों के पास है। शाहरुख के पास मनोरंजन अधिक है तो आमिर के पास मनोरंजन के साथ-साथ संदेश भी।

के द्वारा:

हिंदुत्व क्या हैं ? गीता के आरम्भ में ही अर्जुन ने कहा गोविन्द मै युद्ध नहीं करूगा क्योकि कुल धर्मं सनातन है जातिध्र्र्माह कुल्धर्र्मस्च सास्व्ताह यह जाती धर्मं और कुल धर्मं ही सास्वत है युद्ध जनित नरसंघार से पिन्दोदक क्रिया लुप्त हो जाएगी पितर लोग गिर जायेंगे वर्णसंकर हो जायेंगे इत्यादि हमलोग समझदार होकर भी पाप करने को उद्दत हुए है सस्त्रधारी कौरव मुझ शस्त्र विहीन को मार डाले तो मरना श्रेयस्कर है गोविन्द मैं युद्ध नहीं करूगा यह पाप हैं एक धार्मिक भ्रान्ति ने अर्जुन को मौत के मुह में धकेल दिया गीता के बिश्म्रित होने का दुष्परिणाम था की अनेक भ्रान्तिया फैल गई जिनमे से एक भ्रान्ति का अनुयायी अर्जुन भी था इसपे भगवान कृष्ण ने कहा अर्जुन तुझे यह अज्ञान कहा से उत्पन्न हो गया यह न कीर्ति करने वाला है न कल्याण करने वाला है

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: Anand Rai, Jagran Anand Rai, Jagran

के द्वारा:

मंटों हमें वक्‍त के आइने के सामने खड़ा करते हैं। उनकी रचनायें भारत-पाक विभाजन के उस त्रासदपूर्ण दौर में ले जाती है जिसके घाव का नासूर आज भी रिस रहा है। मेरे लिये मंटों इसलिए अहम है कि उन्‍होंने भारतीय समाज को समझने की तमीज दी। इंटरमीडियेट का छात्र था उस समय मंटों पर केन्द्रित सारिका का विशेषांक छपा था। मैं जवान हो रहा था और चीजें थोड़ी थोड़ी समझ में आती थी। मंटों ने मुझे गहरे तक प्रभावित किया। इसके बाद खोजकर उनकी रचनायें पढ़ना शुरू किया। पिफर मंटों पर समग्र छपा। इस समग्र ने मंटों को और गहराई तक समझने में मेरी मदद की। मंटों यथार्थ के ऐसे चितेरे हैं जो बगैर कुछ अतिरिक्‍त कहे जमाने को उसका असली चेहरा दिखा देते हैं। बेबाक और बेलौस भाषा के चलते उनकी कुछ कहानियों शायद बू और खोल दो पर लाहौर में अश्‍लीलता का मुकदमा भी चला। मंटों की याद ताजा करने के लिए आपको ढेर सारी बधाईयां।

के द्वारा:




latest from jagran